सुनामी कैसे और क्यों आती है?-वजह क्या है?

सुनामी क्यों आती है?

सुनामी लहर क्यों आती है?

            जय हिंद इसे पिछले वाले पोस्ट में हम आपको भूकंप के बारे में A to Z बता दिए थे।  यह बताए थे कि समुद्र में आने वाले भूकंप को हम  सुनामी कहते हैं। सुनामी कैसे और क्यों आती है?-वजह क्या है? DART क्या है?  लेकिन सुनामी जो है वह एक जापानी भाषा का शब्द है।   जिसे  तटीय तरंग कहते है।  पर सुनामी हमेशा तभी क्षति पहुंचाती है। जो समुद्र के किनारे पहुंचती है तब जैसे समुद्र के अंदर उसकी जमीन के अंदर कोई भूकंप उत्पन्न होगा इसका तो फोकस हो जाएगा जमीन के अंदर।  इसका एपीसेंटर हो जाएगा |

           समुद्र का नितल के समुद्र में जहां जहाज चलती है।  तल कहते हैं। और  जहां मरने के बाद आदमी डूब के नीचे चला जाता उसे नितल कहते हैं। डीपी सेंटर हो जाएगा और यह पूरे पानी को हिला देगा जिसका इफेक्ट्स पदों पर देखा जाएगा जिसका इफेक्ट ज्यादा देखने को नहीं मिलता है कि जो होती है इसमें तीन ही चीज होती है तो इसका   स्पीड का मतलब इसका मतलब कितनी लंबी तरंग यह चीज होती है समुद्र में जब चलती है तो इस ख़तरनाक नहीं होती हैं।

 

सुनामी आखिर है क्या? ये प्राकृतिक आपदा कैसे आती है? वजह क्या है?

समुद्र में तरंग इसकी जो लंबाई होती है इसके लिए प्लेन की जो लंबाई होती है वह लगभग 200 किलोमीटर लंबी होती है 200 किलोमीटर लंबी लंबी तरंगे चलती है जिसका नतीजा होता है कि समुद्र में अगर कोई जहाज इसके नीचे चली जाएगी ना तो पता ही नहीं चलेगा इतनी लंबी तरंग होती है और उसकी ऊंचाई भी बहुत कम होती है बहुत लंबा धागा उसके पता तो नहीं चलने वाला है इस वजह से सुनामी बीच समुद्र में कोई इफेक्ट नहीं करती है पता भी नहीं चलता लोगों को कि नीचे से सुनामी चली गई है

            लेकिन यह चीज उत्तरण इतनी लंबी जब वह समुद्र तट पर पहुंचने का रास्ता नहीं मिलता है जिस वजह से ऊपर उठ जाती है जिस वजह से खतरनाक समुद्र का बीच में डिफरेंस क्या होता है कि समुद्र में इसकी वेवलेंथ 200 किलोमीटर होती है जो तक पर आकर  केवल  10 किलोमीटर हो जाती है 200 किलोमीटर की चीज को अगर केवल 10 किलोमीटर में करीब 1 मीटर तक पर आकर 30 मीटर हो जाता है उतना ही खत्म हो जाता है लेकिन समुद्र में कोई रुकावट नहीं होती है

               इस वजह से समुद्र में सुनामी की स्पीड बहुत ज्यादा होती है और तट पर आने के  बाद सुनामी की जो स्पीड होती है वह कम हो जाती है तो पड़ जाती है लेकिन water level  इतना ज्यादा हो जाता है इसके नुकसान कितना भयानक हो जाता है पानी वाली जहाज मोड़ में घुस गई है और यह पानी वाली जहाज समुद्र चीज को शहर में फेंक देता इतना ज्यादा लॉस होता  है। अब आप देखिए ना यह पानी में नहीं जाट को उठा के लाया का समुद्र में और शहर में  फेंक दिया था और एक बिल्डिंग के ऊपर पानी वाली जहाज फेंका था।

 

जापान में सुनामी का कहर

            2011 में जो जापान में   सुनामी आई थी। वह समुद्र के नीचे जो भूकंप आया था उसकी तीव्रता इंटेंसिटी 9  रिक्टर स्केल पर इतना भयानक कुदरत जो है वह दिखा देती है कि हम जब चाहे इंसान को ध्वस्त कर सकते हैं इससे बहुत ज्यादा लॉस होता है  बचने का एक उपाय होता है जिसको हम लोग टेक्निकल भाषा में DART  कहते  हैं।

 

DART(Deep-ocean Assessment and Reporting of Tsunamis)

           Deep-ocean Assessment and Reporting of Tsunamis ह क्या होता है इसके के दो डिवाइस होते एक समुद्र में तैरते रहते इसको लगा दिया जाता है यह क्या करता है पता लगाता है कि समुद्र के तल में कोई भूकंप नहीं आया और अगर भूकंप आया है तो वहां से सुनामी  उत्पन्न होगा । जब सुनामी उत्पन्न होता है तो उसके 8 घंटा पहले DART नाम का मशीन सिग्नल भेज देता अपने सेंटर पर जैसे अंडमान निकोबा में DART  मशीन को लगाया गया है और इसका जो सेंटर है वह कहां पर बनाया गया हैदराबाद में ।

अंडमान निकोबार में भी यहीं पर चेतावनी दे दी जाएगी 8 घंटा पहले ही दे देता है और कुछ घंटे पहले समुद्र तट पीछे हट जाता है क्योंकि पिकअप बनाने के लिए पीछे हटता है लोग घूमने चले जाते है। तो भूकंप एक ऐसे चीज थी  कि हम पूर्वानुमान बहुत मुश्किल से कर पाते थे जबकि सुनामी जो है उसका पूर्वानुमान कर सकते हैं समझ गए होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here